आप तो जानते ही हैं कि Computer एक बहुत ही ज्यादा Powerful और इंटेलिजेंट मशीन है जो कि मानव द्वारा निर्मित की गई है.

आपका बहुत-बहुत स्वागत है हमारे इस Blog Computer-Hindi.com पर और आज हम पढ़ने वाले हैं Computer के कुछ Limitation  के बारे में जिनके बारे में आपको जानना जरूरी है अगर आप कंप्यूटर सीखना चाहते हैं. यह कुछ कमियां हैं जो कि Computer में हमें देखने को मिल जाती हैं.

Computer के प्रमुख कार्य- कम्प्यूटर को जानकारी का इंजन कहा जाता है। जिस प्रकार इंजन में कोयला डालकर उससे ऊर्जा उत्पन्न की जाती है उसी प्रकार कम्प्यूटर में भी आँकड़ों को डालकर इस प्रकार से संशोधित किया जाता है कि उसका जीवन में प्रयोग किया जा सके। कम्प्यूटर में ज्ञान राशि के आँकड़ों को परिमार्जित, संशोधित, व्यवस्थित तथा संगृहीत किया जाता है जिससे वे जीवन में उपयोग किये जा सकें। अतः कम्प्यूटर के मुख्य कार्य निम्नलिखित हैं

(1) ऑकड़ों का संकलन

(2) आँकड़ों का संचयन।

(3) आँकड़ों का परिमार्जन तथा व्यवस्थितिकरण।

(4) आँकड़ों का पुनर्निगमन।

Computer की क्षमतायें अथवा विशेषतायें– आज कम्प्यूटर ने जीवन के प्रत्येक क्षेत्र को इतना प्रभावित किया है कि हम बिना कम्प्यूटर के बहुत से कार्यों की कल्पना भी नहीं कर सकते हैं। यह सम्भव हुआ है उसमें प्रयुक्त किये जाने वाले उच्च क्षमता के माइक्रोचिप आदि के प्रयोग से। इसने मानव के द्वारा तैयार किये निर्देशों के आधार पर ही त्रुटिरहित परिणाम इतनी त्वरित गति से तैयार किये हैं कि जन-सामान्य आश्चर्यचकित रह जाये। इसकी क्षमतायें किसी भी अन्य गणक मशीन से श्रेष्ठ हैं। इन्हें हम निम्न प्रकार से विभाजित कर सकते हैं

Computer के प्रमुख कार्य और विशेषतायें

(1) गति-

कम्प्यूटर का सबसे बड़ा गुण ही उसकी गणना करने की तीव्र गति है। कम्प्यूटर द्वारा गणनायें इतनी तीव्र गति से की जाती हैं कि हम उसकी कल्पना भी नहीं कर सकते हैं। एक साधारण कम्प्यूटर एक सेकण्ड में एक करोड़ गणनायें कर सकता है।

वहीं आधुनिकतम कम्प्यूटर तीन करोड़ तक गणनायें कर सकता है। कम्प्यूटर का समय माइक्रो सेकण्ड तथा नानो सेकण्ड में मापा जाता है। इस गति के कारण ही कम्प्यूटर हमारे लिये महत्वपूर्ण हो गया है। पहले हम जिस कार्य को दिनों तथा महीनों में पूरा करते थे, कम्प्यूटर कुछ ही समय में पूरा कर देता है।

(2) संचय क्षमता-

कम्प्यूटर में बहुत अधिक मात्रा में डाटा भंडारण की क्षमता होती है। एक सामान्य फ्लॉपी डिस्क में कई हजार टाइप पेज के बराबर जानकारी एकत्र की जा सकती है। एक लेसर डिस्क में चार करोड़ शब्दों का भंडारण किया जा सकता है।

एक पूरी की पूरी डिक्शनरी एक सीडी रोम में संचय की जा सकती है। जानकारी का संग्रह तो एक बात है,परन्तु कम्प्यूटर में यह सुविधा होती है कि उक्त जानकारी को तुरन्त ही निकाल कर प्रयोग किया जा सके।

कम्प्यूटर की इसी विशेषता ने इसे अत्यधिक महत्वपूर्ण बना दिया है, क्योंकि उच्च स्तरीय विश्लेषण हेतु आंकड़ों का उपलब्ध होना भी आवश्यक है। कम्प्यूटर सभी सम्बन्धित आंकड़े एकत्र करता है, उन्हें निर्देशित प्रोग्रामों के आधार पर पूर्व के आँकड़ों के साथ विश्लेषित करता है तथा परिणाम प्रदर्शित करता है। इस प्रकार रेलवे आरक्षण, मौसम विज्ञान, आयुध संचालन में कम्प्यूटर का प्रयोग अधिक हो गया है।

(3) विश्वसनीयता एवं निर्भरता-

कम्प्यूटर द्वारा की गई डाटा प्रोसेसिंग विश्वसनीय होती है। इसमें गलती की कोई सम्भावना नहीं रहती है। इसकी गुणवत्ता इतने उच्च-स्तर की होती है कि उस पर निर्भर रहा जा सकता है। अंकीय कम्प्यूटर में यथार्थता शत-प्रतिशत होती है। यह एक दिये हुये प्रोग्राम के अन्तर्गत दिये गये डाटा को बिना किसी अशुद्धि के बार-बार सम्पन्न कर सकता है।

(4) स्वचालन-

कम्प्यूटर की गणनायें स्वचालित होती हैं। इसको एक बार कोई प्रोग्राम दे दिया जाये तथा उसमें सम्बन्धित आँकड़े उपलब्ध करा दिये जायें तो यह स्वतः ही प्रोग्राम डालने पर गणना कर सकता है। इसीलिये यन्त्र मानव आदि का कम्प्यूटर द्वारा संचालन सम्भव हुआ है। मौसम सम्बन्धी भविष्यवाणियाँ भी कम्प्यूटर उपलब्ध आँकड़ों तथा पिछले को मिलाकर स्वतः ही करता है।

(5) उपयोगिता-

हमारे अधिकांश कार्य तर्क पर आधारित होते हैं। कम्प्यूटर एक तार्किक मशीन है। हम किसी भी प्रोग्राम के द्वारा कम्प्यूटर को कार्य करने हेत निर्देशित करते हैं। ये निर्देश उस प्रोग्राम में दिये जाते हैं। कम्प्यूटर उक्त निर्देशों के अन्तर्गत कार्य का सम्पादन करता है। वह किसी भी कार्य को कर सकता है। यदि हम उसे प्रोग्राम द्वारा उक्त कार्य को करने की प्रक्रिया समझा सकें।

6) सक्षमता-

कम्प्यूटर एक मशीन है। मनुष्य की कार्य करने की सीमायें होती हैं। एक सीमा के बाद व्यक्ति थक जाता है, परन्तु कम्प्यूटर कभी नहीं थकता। उससे हम एक ही प्रकार की अथवा विभिन्न प्रकार की गणनायें निरन्तर करवा सकते हैं। उसे कभी कार्य से नीरसता अथवा बोरियत नहीं होती। What is PC?

हम आशा करते हैं कि आपको यह Article पढ़ के मजा आया होगा इस आर्टिकल में हमने Computer के प्रमुख कार्य और विशेषतायें के बारे में आपको जानकारी दी है, अगर आपको लगता है कि कोई जानकारी हमसे छूट गई हो तो कृपया कर उसे Comment में हमसे साझा करें.

अगर आपको यह Article Helpful रखता है तो आप इस आर्टिकल को अपने मित्रों के साथ और घर के सदस्यों के साथ Share कर सकते हैं और उन्हें भी कंप्यूटर की जानकारी दे सकते हैं.

आप हमारे Blog से Computer के बारे में बहुत कुछ सीख सकते हैं एस Blog पर कंप्यूटर की सभी जानकारी के बारे में बताया जाता है वह भी बहुत आसान भाषा में धन्यवाद आपका इस आर्टिकल को पढ़ने के लिए.

Previous articleComputer क्या हैं? इनके 8 उपयोगी कार्य
Next articleComputer की कमियां और सीमाएं | Limitation of Computer
मेरा नाम राम है और मैं इस वेबसाइट को मैनेज करता हूं. मेरी बचपन से ही Computer में बहुत ही अधिक रुचि थी, और मैं पिछले 5 साल से कंप्यूटर के बारे में सीख रहा हूं सीखते सीखते मैंने यह सोचा क्यों ना मुझे यह सब जानकारी मेरे उन दोस्तों के साथ शेयर करनी चाहिए जो कि कंप्यूटर के बारे में सीखना चाहते हैं और अपनी जिंदगी में आगे बढ़ना चाहते हैं यही कारण है कि हमने यह ब्लॉग आप लोगों के लिए बनाया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here